loading...

Latest Movies

Today Best choice
check all movies now playing

Sunday, September 8, 2019

घर में शादी के बहाने चुदाई | xstoryhindi

घर में शादी के बहाने चुदाई | xstoryhindi

हैलो दोस्तों कैसे है आप सभी और कैसी चल रही है चुदाई ? जिसकी चल रही है वो मज़े ले रहा होगा और जिसको कुछ नहीं मिल रहा वो यहाँ आके कहानियां पढ़के काम चल रहा है | मैं उन लगों की मदद करने के लिए अपनी कहानी यह लिख रहा हूँ | मेरा नाम अतुल है और मैं इटारसी का रहने वाला हूँ | मेरी उम्र 21 साल है और दिखने में बहुत अच्छा हूँ | मैंने पिछले तीन साल में बहुत लड़कियों को बजाया है लेकिन जो कहानी मैं आज आपको बताने जा रहा हूँ वो मेरी शुरुआत थी जिसमें मज़ा बहुत आया था | तो सीधा चलते है अपनी कहानी की ओर |
घर में शादी के बहाने चुदाई | xstoryhindi

ये कहानी शूरू है तीन साल पहले मार्च के महीने से जब मैं अपने गाँव गया था जो की इटारसी से कुछ किलोमीटर दूर है | दरसल मेरे मामा की शादी थी और मैं उसमें शामिल होने गया था | अब शादी ब्याह का माहौल और गाँव की सुन्दर सीधी साधी लड़कियां मज़ा ही आ गया था | मैं शाम को वहां पंहुचा और अन्दर गया | जैसे ही मैं अन्दर नानी के पास गया तो देखा की दो मस्त माल लड़कियां और कुछ औरतें नानी के साथ बैठी थी | मेरा ध्यान तो नानी की तरफ गया ही नही और मैं खड़े होकर दोनों लड़कियों को देखने लगा | मुझे तो अन्दर से इतनी ख़ुशी हुई जैसे मेरी लौटरी लगी हो | फिर मैंने अपना होश संभाला और जाके नानी के पास बैठ गया | मेरी नानी उनके सामने मेरी तारीफ करने लगी और मैं सिर झुकाये बैठा रहा | मेरा आधा काम तो नानी ने ही कर दिया था बस बाकी का मुझे करना था | तो जब वो लोग उठकर गये तो मैं भी उनके पीछे पीछे बाहर गया और किस्मत से वो लोग बाजू में ही रहते थे |

अब मैं शाम को छत पर खड़ा था और इंतज़ार कर रहा था 2 घंटे हो गए दोनों में से कोई नही आई तो मैं नीचे चला गया | फिर मैं खाना खा के जब ऊपर आया तो एक छत पर घूम रही थी जैकपोट | रात का वक़्त था लेकिन लाइट काफी थी और सब कुछ ठीक से दिखाई दे रहा था | मैंने उसको हाँथ दिखाया और हाए कहा तो उसने भी बड़े उत्साह से हाय किया और चल के बाउंड्री की दीवाल के पास आ गई | 

मैंने उसके बारे में बहुत कुछ पूछा वो भोपाल में रहती थी और यहाँ छुट्टियों में आई थी उसका नाम श्रेया था और उसकी बड़ी बहन का नाम ऐश्वर्या था दोनों माल थी गजब थी | फिर मैंने फ़्लर्ट करना शुरू किया और वो फसती चली गई | फिर उसे किसी ने आवाज़ लगाई और वो जाने लगी तो मैंने उसको रोका और पूछा अच्छा इतना तो बताती जाओ मैं कैसा लगा ? तो उसने कहा बहुत प्यारे और मुस्कुराते हुए चली गई | बस ! लड़की पट गई बस बोलने की देर थी तो मैंने अगले दिन शाम का समय चुना और उसके बीच में हमारी एक बार बात और हुई और मैंने कहा की शाम को 6 बजे छत पर आना कुछ बात करनी है | वो शाम को छत पर आई और मैंने उसको प्रोपोस कर दिया | उसने कहा बहुत फास्ट हो तुम मैं थोडा सोच के बताउंगी |

अगले दिन शादी थी और मैं दिन भर बात उससे बात नही कर पाया | शाम को मैं फुर्सत से बैठा था छत पर तभी वो आई और कहने लगी इतने उदास क्यों हो ? तो मैंने कहा मुझमें और मेरी हँसी के बीच में तुम्हारे हाँ की दीवार है | उस वक़्त वहां कोई नहीं था सब नीचे काम में लगे हुए थे | उसने इस बात का फायदा उठाया और मुझे किस कर दिया और कहा मिल गया जवाब | मैं एक पल इए सोचता ही रह गया कि क्या हुआ मेरे साथ लेकिन मैंने खुद को संभाला और उसकी छत पर खुद गया और उसको जोर से गले लगा लिया और किस करने लगा | मैंने ज्यादा किस नहीं किया और अपनी छत पर वापस चला गया और खड़े होकर बात करने लगा |

 बात करते करते मेरे ध्यान बार बार उसके दूध पर जा रहा था तो मैंने कहा तुम्हारे बूब्स बहुत प्यारे लगते है तो उसने कहा अच्छा | तो मैंने कहा हाँ दिखाओ ना तो उसने कहा नहीं इतनी जल्दी क्या है ? तो मैंने टॉप के ऊपर से ही उसके दूध दबा दिए और वो एकदम से पीछे हो गई और कहने लगी नहीं कोई देख लेगा | तो मैंने कहा अच्छा जहाँ कोई देख ना रहा हो वहां दिखाओगी, तो उसने कुछ नही कहा लेकिन मुझे तो पता था उसकी हाँ है | मैं सोचने लगा यहाँ गाँव में कहाँ कोई खाली जगह मिलेगी और ऊपर से किसने ने पकड़ लिया तो गांड मर जाएगी | मैंने अपना गांडू दिमाग लगाया और सोचा कि रात में तो सब बारात में जायेंगे और शादी की जगह भी घर से थोड़ी दूर ही थी इसलिए अपना घर ही खाली रहेगा | तो मैंने बारात के वक़्त उसको पकड़ा और घर ले आया | घर पर सिर्फ नानी ही थी जो अन्दर अपने कमरे में थी बाकी सारे कमरे खाली थे लेकिन सबसे ज्यादा सेफ था छत वाला कमरा जहाँ किसी के आने का कोई आसार नहीं था |

पहले तो वो आ नही रही थी उसको पता होगा मैं उसकी मारने के लिए उसको लेकर जा रहा हूँ लेकिन मैंने एक दो इमोशनल बातें बोल दी और वो मेरे साथ आ गई | जैसे तैसे हम दोनों छत वाले कमरे तक पहुंचे और जैसे ही हम अन्दर गए मुझे पापा का फ़ोन आ गया कि जल्दी आओ यहाँ फोटो खीचानी है मैंने कहा हाँ बस 15 मिनिट में आता हूँ और फ़ोन रखकर कमरे का दरवाज़ा लगाया और उससे कहने लगा देखो हमारे पास ज्यादा टाइम नहीं है और जो भी करना है जल्दी करना है | तो उसने मुझे घूर के देखा और कहा ऐसा क्या करना है ? तो मैंने कहा देखो मासूम नहीं बनो और किस करने लगा | वो किस करने में मगन हो गई हम थोड़ी देर तक किस करते रहे | उसने साड़ी पहनी हुई थी तो मैंने उसका पल्लू हटाया और उसके ब्लाउज के हुक खोल के ऊपर उठाया और उसके दूध दबाने लगा | नार्मल साइज़ के दूध और भूरे निप्पल हाय जन्नत | मैं उसके दूध दबा रहा था तभी याद आया पापा ने बुलाया है मैंने उसके दूध चूसना शुरू कर दिया |

अब मैं उसके दूध चूसने में बिलकुल खो चूका था और मुझे अब कुछ याद नही था कि मुझे कहीं जाना है | फिर उसने मुझे रोका और कहा बस चलो अब तो मैंने कहा अरे अभी तो मैंने स्टार्ट किया है और अपनी पैंट उतार दी और कहा ये लो | तो उसने मेरा लंड देखा और कहा क्या करना है ? तो मैंने कहा तुम बैठो बताता हूँ और जैसे ही वो बैठी उसने मेरा लंड पकड़ा और चूसना शुरू कर दिया | जैसे ही उसने मेरा लंड मुंह में लिया तो मेरा लंड उसने लगभग आधा अन्दर ले लिया | मैं समझ गया था कि ये इसका पहली बार नहीं है बस भोसड़ी वाली मासूम बन रही है | वो बहुत मस्त तरह से लंड चूसने में लगी हुए थी और मैं आँखें बंद करके मज़े ले रहा था | 

थोड़ी देर में ही मेरा निकलने को हुआ था तो मैंने लंड पकड़ के हिलाना शुरू कर दिया तो वो किनारे हो गई और कहने लगी नहीं मेरे ऊपर नहीं, तो मैंने वहीँ एक कोने में गिरा दिया | फिर वो खड़ी हुई और अपना ब्लाउज लगाने लगी तो मैंने कहा अभी बाकी है किस बात की जल्दी है तुम्हें ? तो उसने कहा अरे हो तो गया चलो अब | तो मैंने कुछ नहीं कहा और जाके नीचे से उसकी साड़ी उठाने लगा | उसने अपनी साड़ी पकड़ी और कहने लगी नहीं नहीं तो मैंने कहा बस थोड़ी देर जल्दी जाना है और उसने अपना हाँथ हटाया और मैंने साड़ी उठा दी | मैंने उससे कहा घूम जाओ और वो घूमी और झुक के खड़ी हो गई | मैंने उसकी पैंटी नीचे की और पीछे से उसकी चूत पर हाँथ लगाया | उसकी चूत बिलकुल चिकनी थी जैसे आज ही बाल उठाये हो मतलब साली चुदने के मूड से आई थी लेकिन नखरे चोद रही थी | 

अब तक मेरा लंड भी उठ चूका था तो मैंने उसकी चूत पर थूक मला और अपना लंड अन्दर घुसा दिया | वो अह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह ह्ह्ह्हह्हह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह उम्म्मम्म्म्म उम्म्मम्म उम्म्मम्म अह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह कर रही थी और मैं उसको चोदे जा रहा था | फिर मैंने उसका एक पैर उठाया और झटके मार मार के चोदने लगा और उसकी आह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह आह्ह्ह्हह्ह की आवाज़ बढ़ गई | थोड़ी देर चोदने के बाद मेरा झड़ने को हुआ तो मैंने कहा मेरा निकलने वाला है अन्दर गिरा दूँ ? तो उसने कहा नहीं नहीं और फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाला और वहीँ कोने में गिरा दिया | फिर हमने कपड़े ठीक किया और हम चले गए |

पड़ोस की लड़की के साथ रात में लिए मजे | xstoyhindi

पड़ोस की लड़की के साथ रात में लिए मजे | xstoyhindi

दोस्तों, मेरा नाम ललित है और मैं राजस्थान का रहने वाला हूँ | मेरी हाइट 5 फुट और 8 इंच है और रंग गोरा, बॉडी फिट है | दोस्तों मैं भी आप लोगों की तरह इस वेबसाइट का पाठक हूँ और आज अपनी दूसरी कहानी लेकर हाजिर हूँ | मेरी पहली कहानी को आप लोगों से बहुत प्यार मिला | आशा है की इस कहानी को भी आप लोगों का भरपूर प्यार मिलेगा | खैर, अब आप लोगों को और ज्यादा समय न लेते हुए कहानी पर आता हूँ |
पड़ोस की लड़की के साथ रात में लिए मजे | xstoyhindi

एक बार की बात है, मैं अपने ननिहाल गया हुआ था | वो घर शहर में है | उस घर के सामने एक घर है जिसमे एक मस्त माल रहती है | उसका नाम नेहा है और वो गोरी है काफी | उसको उम्र लगभग 19 है और उसका फिगर मस्त है | बूब्स उसके बहुत बड़े तो नही हैं लेकिन उसके पतले शरीर के हिसाब से सही हैं | उसकी गांड भी बहुत उठी नही है लेकिन अच्छी लगती है | नेहा एक हॉट तो नही लेकिन एक क्यूट माल है | 

पहले भी मैंने कई बार उस पर लाइन मारी है लेकिन वो थोडा भाव खाने लगी तो मैंने भी ज्यादा कोशिश नही की | इस बार जब मैं गया तो मामा के घर में भी ऊपर वाली मंजिल पर एक कमरा बन चूका था और उसकी छत पर भी कमरे बन चुके थे | मैंने लैपटॉप लिया और मामा के ऊपर वाले कमरे में चला गया और दरवाजा अन्दर से बंद करके फिल्म देखने लगा | मैं फिल्म देख ही रहा था की अचानक से मैंने सामने देखा तो नेहा मुझे देख रही थी | मैंने अब फिल्म बंद की और उसे लाइन देना शुरू कर दिया | इशारों इशारों में थोड़ी बातें हुईं लेकिन तभी उसकी मम्मी आ गयीं इसीलिए वो चली गयी | वो गयी तो मेरा मन नही लग रहा था | मैंने फ़ोन में हॉटस्पॉट ओन किया और लैपटॉप पर पोर्न विडियो चला कर ईरफ़ोन लगा आकर देखने लगा | मेरा लंड खड़ा हो चूका था |

अभी मैं पोर्न देख ही रहा था की वो अचानक से फिर दिखी | उसे देखकर मुझे मजा आ गया | मैंने चादर ओढ़ी और उसे चोदने की कल्पना करके लंड हिलाने लगा | जब मैंने देखा की वो मेरी तरफ ही देख रही है तो मैंने लंड हिलाना बंद कर दिया ताकि उसे बुरा न लग जाये और इशारे इशारे में फ़ोन नंबर माँगा | उसने एक कागज पर अपना नंबर लिखा और मेरी बिल्डिंग की तरफ फेंक दिया | 

अब मैंने बालकनी से वो कागज उठाया और उसका नंबर सेव करके उसे व्हात्सप्प पर मेसेज कर दिया | इशारों में मैंने उससे मोबाइल चेक करने को बोला | उसने मुझे रिप्लाई किया और अब हम दोनों व्हात्सप्प पर चैट करने लगे | बातों ही बातों में मैंने उसको बताया की मैं उसे पसदं करता हूँ | वो बोली की वो भी करती है | अब मैंने उसको बिना देर किये आई लव यू बोल दिया | उसने भी तुरंत आई लव यू टू बोल दिया | मैं खुश हो गया | अब उससे सीधा चुदाई के लिए तो नही बोल सकता था | इसीलिए मैंने उससे बोला की तुम्हे किस करने का बहुत मन कर रहा है | वो बोलने लगी की कण्ट्रोल करो | मैंने बोला इतने दिनों से किया तो है लेकिन अब नही हो रहा | वो बोली चलो मैं देखती हूँ क्या हो सकता है | मैं खुश हो गया |

शाम को उसका मेसेज आया की वो रात में ऊपर वाले कमरे में अकेले सोएगी | अब मैंने भी मामा से बोला की मामा, मुझे रात में लैपटॉप पर कुछ काम करना है इसीलिए मैं ऊपर वाले कमरे में ही सोऊंगा | फिर मैं कहाँ वगैरह खा कर ऊपर आ गया और दरवाजा बंद कर लिया | अब मैं उसका इंतजार करने लगा | लगभग आधे घंटे के बाद वो भी खाना खा कर आ गयी | मैंने उससे बोला की बताओ अब कैसे करना है | वो बोली थोडा रुको, सबको सो जाने दो | लगभग 10 बजे जब लगभग सारे लोग सो गये तो उसने बोला की एक उपाय है लेकिन रिस्क है उसमे | मैंने बोला तुम बताओ तो, मैं रिस्क लेने के लिए तैयार हूँ | वो बोली की फिल्मी स्टाइल | 

असल में दोनों घरों की बालकनी में लगभग 4 फुट का फर्क है | अब जो उसने बताया वो सच में रिस्की था | वो बोल रही थी लकड़ी के पटरे लगा कर मैं उसके घर में आ जाऊं और उसके कमरे में जाकर उसको किस कर लूं | मैंने हिसाब लगाया और 3 पटरे ले आया और अपनी बालकनी से उसकी बालकनी के बीच लगा दिए | अब रास्ता चौड़ा हो चूका था और कोई भी आराम से इन लकड़ी के पटरों पर से आराम से आ जा सकता था | मैंने इधर उधर देखा | अँधेरी रात थी इसीलिए डर कम था किसी के देखने का | जब कोई नही दिखा तो मैं उन पटरों पर चढ़ा और उसकी साइड जाकर फिर से पटरे उतार कर उसकी ही छत पर साइड में रख दिए | अब मैं और वो उसके कमरे में चले गये |

मैंने जाते ही उसके कमरे का दरवाजा बंद किया और उसे दीवार के सहारे टिकाकर जोरदार किस करने लगा | वो भी गर्म थी, मेरा पूरा साथ देने लगी | मैंने अब उसके होठों को चुसना शुरू कर दिया | धीरे धीरे मैं उसकी गर्दन और उसके आस पास किस करने लगा | वो मस्त हो कर सिसकियाँ लेने लगी | मैंने अब उसको बिस्तर पर लिटाया और अपनी टीशर्ट उतार कर के उसके ऊपर आ गया | वो मेरे इरादे समझ गयी और बोलने लगी शराफत से बस किस करो और जाओ.. बाकी फिर कभी | मैंने कहा अच्छा किस तो करने दो अच्छे से | वो बोली ठीक है, लेकिन सिर्फ किस | मैंने बोला ओके | अब मैं उसके होठों पर किस करने लगा | 

किस करते करते मैंने उसकी गर्दन पर किस करना शुरू कर दिया | किस करते करते मैं अपना एक हाथ उसके बूब्स पर ले गया | उसने मेरा हाथ वहीँ झटक दिया | अब मैंने उसको फिर से किस करना शुरू कर दिया और अपना हाथ उसके बूब्स पर ले जाने लगा | उसने मेरा हाथ अपने बूब्स से हटाया और अपने हाथों से पकड़ लिया | अब मैंने उसके कान के पास किस करना शुरू कर दिया | उसको मजा आने लगा और उसने मेरे हाथ की पकड़ ढीली कर दी | अब मैंने थोडा सा जोर लगाया और उसके बूब्स पर हाथ ले गया | अब मैं उसके बूब्स दबाने लगा | वो मजे से आह्ह्ह ह ह हह हह ह ह ऊऊ ऊ ऊ उ उमम उम्म्म उम् करने लगी |

अब मैंने उसके कपडे के ऊपर से उसके बूब्स पर किस करने लगा | वो मस्ती में सिसकियाँ लेने लगी | अब मैंने उसका टॉप ऊपर कर दिया और ब्रा को साइड करके उसके बूब्स चूसने लगा | उसके छोटे छोटे निप्पल चूस रहा था | दोस्तों उसके छोटे बूब्स में जो मजा था वो आज तक मुझे बड़े बूब्स चूस कर भी नही आया | उसके बूब्स मुझे मीठे से लग रहे थे | मैंने अबी उसका दूसरा दूध अपने हाथ में लिया और चुसना शुरू कर दिया | 

मुझे मजा आ रहा था | अब मुझसे रहा नही गया और मैंने एक हाथ सीधा उसकी लोअर के अन्दर घुसेड कर उसकी चूत को सहलाना शुरु कर दिया | वो गुस्सा दिखाने लगी | मैंने उसको थोडा सा किस किया और उसके बूब्स को जोर जोर से किस करने लगा | अब वो भी गर्म हो चुकी थी थोड़ी सी | मैंने अब उसकी चूत में अपनी ऊँगली घुसेड दी और अन्दर बाहर करने लगा | उसकी चूत कसी थी और हलकी सी गीली भी | वो सिसकियाँ लेने लगी और आह हह हह हह ह हह ह्ह्ह ह्ह्ह हह ह्ह्ह ह ह्ह्ह्हह ह ह्ह्ह ह ह्ह्ह हह उम् मम मम म्मम्मम्म म मम मम उम् मम उम् म उम् अह अहह करने लगी |

मैंने अब उसका लोवर उतार दिया और उसकी पैंटी भी | अब मैंने ज्यादा देर करना सही नही समझा | मैंने अब सीधा लंड उसकी चूत पर टिकाया और एक ही झटके में घुसेड दिया | वो चिल्ला पड़ी | मैंने तुरंत ही उसका मुंह बंद किया की कहीं कोई सुन न ले | अब मैंने झटके देने शुरू कर दिए | वो भी मजे लेने लगी | थोड़ी देर बाद वो झड गयी | मैंने भी अपना लंड उसकी चूत से निकाल कर बेड पर झाड दिया और उसको बाँहों में लेकर सो गया | सुबह लगभग 4 बजे हमने फिर से चुदाई की और उसके बाद मैं वापस अपने मकान में उसी रस्ते आ गया | अब जब भी मैं वहां जाता हूँ, हम चुदाई के मजे लेते हैं |

अपने टीचर की लड़की को चोदा | xstoryhindi

अपने टीचर की लड़की को चोदा | xstoryhindi

हेल्लो मेरे दोस्तों कैसे हो आप लोग | सालो ठीक ही होगे | मूडऑफ़ में कौन सेक्सी कहाँनिया पढता है | तो मेरे प्रिय बन्दुओ मेरे बड़े तथा छोटे भाइयो पहले आप लोग थोड़ा मेरे बारे में जान लीजिये फिर मैं अपनी कहानी को आगे बढाता हूँ | दोस्तों मेरा नाम उदित कुमार है | मैं लोहाघाट उत्तराखंड का रहनेवाला हूँ | मेरा परिवार एक छोटा परिवार है |
अपने टीचर की लड़की को चोदा | xstoryhindi

मेरे घर में मेरे मम्मी-पापा और एक छोटा भाई है | छोटा भाई अभी 8 साल का है और 5 क्लास में पढता है | मेरे पापा फ़ौज में है | और मम्मी हाउसवाइफ हैं | दोस्तों मैं भी अपनी पढाई पूरी करके फ़ौज में जाके देश की सेवा करना चाहता था | चलिए दोस्तों मैं ज्यादा अपनी इस परिचय कहानी को न बढाकर आगे बढ़ता हूँ | जिससे की आप लोगो की झांटे फायर हो |

आप सभी प्यारे दोस्तों को मैं अपनी लाइफ की एकदम सच्ची घटना बताने जा रहा हूँ | तो दोस्तों ये बात उस समय की है | मेरा एक शुरू से सपना था की मैं भी अपने पापा की तरह फ़ौज में भर्ती होके अपने देश की सेवा करूँ | लेकिन मैं अभी छोटा था | और मेरी पढाई भी पूरी नही हुई थी | मेरी उम्र अभी 16 की थी और मैं 11th क्लास में था | दोस्तों मैं एकदम जवानी की सीढ़ी चढ़ ही रहा था | दोस्तों मैं दिखने में एकदम स्मार्ट और चिकना था | मैं अपनी पढाई आर्मी पब्लिक स्कूल में करता था | डेली हम आर्मी बस से जाते थे |

 और छुट्टी में वही बस छोड़ने आती थी | दोस्तों मैं अपनी क्लास में बहुत हरामी लौंडो में से एक था | लगभग सभी टीचरो की झांटे मुझपे राख रहती थी | लेकिन मुझे दोस्तों झांट भर फर्क नही पड़ता था | क्योकि मैं अपनी आदतों से मजबूर था | दोस्तों मेरा डेली का रोटीन था| की मैं सुबह 4 बजे उठकर अपने ही आर्मी कैंपस के ग्राउंड में रेस करके और उसके बाद में आधे घंटे जिम करता था | और उसके बाद में अपने कॉलेज के लिए तैयार होता था | दोस्तों ठीक 8 बजे हम सभी अपने-अपने घरो के सामने खड़े हो के बस का इन्तजार किया करते थे | जिन्दगी एक दम रोले से कट रही थी | दोस्तों मेरी क्लास में एक लड़की थी | वो बहुत ही कैंट और झक्कास माल था | सभी लौंडो की उससे फटती थी | क्योकि वह बहुत ही स्ट्रिक्ट थी | और दूसरी बात वो हमारे मैथ के टीचर की लड़की थी | इसलिए लडको की और भी ज्यादा फटती थी |

दोस्तों वह मुझे भी अच्छी लगने लगी थी | अब मेरा पूरा ध्यान उसे फ़साने में लगा दिया | दोस्तों मैने अपना पूरा मन पढाई की तरफ न करके उसकी तरफ में लगाया | मुश्किले आयी पर मैने उसे पूरी तरह से सेट कर लिया था | अब वो मेरी दीवानी सी हो चुकी थी | और अच्छी बात ये थी की वो मेरी ही कॉलोनी के 1 फ्लोर को छोड़ के उसके ऊपर वाले फ्लोर में रहती थी | हम एक दम अच्छी तरह से घुल- मिल गये थे | हम और वो एक साथ ही कॉलेज के लिए तैयार होके बस में एक ही सीट पर बैठके जाते थे | और कॉलेज जाके क्लास में एक ही सीट पर बैठते थे | मैं उससे खूब मजे लेता था और ये देख कर सभी लड़के साले मेरे से जलते थे | क्योकि मैने अपने कॉलेज का सबसे कडाका माल को फांस रख्खा था | लेकिन मुझे झांट भर फर्क नही पड़ता था | 

मैं और मेरा माल बहुत खुस थे | हम साथ-साथ ही रहते थे और एक ही साथ ही अपने कॉलेज की सीट पर बैठकर इंटरवेल में बैठकर लंच किआ करते थे | और बाद में घर के लिए बस की एक ही सीट पर बैठ कर जाते थे | दोस्तों एक दिन जब मैं क्लास में बैठा था साइंस का पीरियड था और रिप्रोडक्शन का लेसन था | दोस्तों जो मेरा साइंस का टीचर था वो साला बहुत लडुर टाइप का था | वह उस लेसन को मजे लेता हुआ पढ़ा रहा था और सभी लड़के भी मजे लेते हुए पढ़ रहे थे | लगभग सभी लड़के गरम हो चुके थे | और सभी का लंड फूल रहा था | लडकिया भी लगभग सकल से गरम दिख रही थी | दोस्तों मेरी गर्लफ्रेंड मेरे ही पास ही बैठी थी | और वह भी लग रहा था की गरम हो रही थी | और वह अपने मुह पर रुमाल रख कर हलकी-हलकी हस रही थी |

 मैं समझ गया था कि वो भी इस लेसन को मजे से पढ़ रही है | मेरा थोडा सा मन उसे चुने का हुआ | मैं धीरे-धीरे उसकी तरफ बड़ा और उसके दूधो पे अपने हाथ फेरने लगा | उसने पहले तो मेरे हाथो को हटा दिया | और जब मैने फिर हाथ उसके दूधो पर लगाये तो वह फिर से मेरे हाथो को हटाना चाहा लेकिन इस बार मैने जबरजस्ती करके उसके दूधो को दाबने लगा और वह अहाहा अहहाह अहः अहहाह अहहः अहहाह ओहोहोहो होहोहोह उन्ह उन्हुन्हुंह उन्ह उन्ह उन्ह उन्ह उन्ह आहाह्ह हहहः की सिस्कारिया ले रही थी | थोड़ी देर बाद वो भी गरम हो गयी और उसको मेरे से कोई ऑब्जेक्शन नही होने लगा | 

मैने अपना ध्यान पढाई की और न करके सेक्स की ओर लगा दिया | थोड़ी देर बाद में उसके दूध दाबते-दाबते उसकी जांघों तक पहुँच गया | दोस्तों उसको मेने पूरी तरह से गरम कर दिया था | जब मैं उसकी झांघो में आपना हाथ फिराते-फिराते उसकी चूत की तरफ ले गया तो दोस्तों जेसे ही मैने उसकी चूत में हाथ डाला ही था | बेहेंचोद तुरंत ही मैने बाहर निकाल लिया क्योकि भाइयो वो साली झड चुकी थी | मेरे हाथ गंदे हो गये थे | मैं अपने कॉलेज के बाथरूम में जाके अपने हाथो को मल-मल के धोया |

उसके बाद आके मैं अपनी सीट पर बैठ गया | और उससे अपनी कॉलोनी की बिल्डिंग के पीछे मिलने को मनाया और वो मान गयी | छुट्टी हुई और हम घर आये | खाना पीना करके आराम करने लगा धीरे-धीरे शाम हुई और उसके बाद रात के जब 11 बजे तो मैं अपने कॉलोनी की बिल्डिंग के पीछे पंहुचा | तो वहां देखा की वो अभी आयी नही थी | मैं सोंच में पड गया की कहीं साली गोली तो नही टिका गयी | लगभग आधा घंटा इन्तजार करने के बाद वो आयी | भाई लोगो उसको देखते ही दिमाक ख़राब हो गया क्योकि वो इतने छोटे कपडे पहने थी |

 और वह उन कपड़ो में एकदम संस्कारी पटाका लग रही थी | भाई लोगो उसके बाद में मैने उसको अपनी बाँहों में ले लिया और उसे चूमने-चाटने लगा | भाइयो मैं बहुत गरम हो गया था | और अपने आप को रोक नही पा रहा था | मैने उसकी होंठो को अपनी होंठो में लेके चूसने लगा | लगभग 10 मिनट तक मैने उसके होंठो को चूसा | फिर जब वो भी पूरी तरह से गरम हो गयी तब उसने मेरे सब कपडे उतार दिए और अपने कपडे भी उसने उतार दिए | फिर बाद में मेरे लंड को अपने हाथ में लेके मूंठ मारने लगी और उसके बाद में मेरे लंड को अपने मुह में रख कर जोर-जोर से चूसने लगी |

 और मैं अहहहः अहहहा अहह्हाह अह्हह होहोह ह्होहोह ओह होह ओहो आह्ह आह्ह आह्ह आह्ह आह्ह हहहः हाहाह अहहाह की सिस्कारिया ले रहा था | और फिर थोड़ी देर बाद में मैने उसका सर को पकड़ के अपने लंड को उसके मुह में जोर-जोर से अन्दर-बाहर करने लगा और फिर बाद में मैने उसको वही घास पे लिटा दिया और उसकी चूत में अपना मुह डालके चूसने लगा | और वह आआह्ह अहम्म ईईई अहः अहः अहः अहः उन्ह उन्ह उन्ह उन्ह उन्ह ओह हो ओह ओह ओह ओह ओह हो आह्ह आःह आःह आःह्ह आह्ह अहह उन्हह उन्ह उन्ह हाहाह अहः अहः आह्ह आह्ह आह्ह अहः अहहाह की सिस्कारिया ले रही थी | 

कम से कम 10 मिनट तक ये सीन चला और उसके बाद में चुदाई का प्रोग्राम बनाया | तो फिर दोस्तों मैने उसे अपने लंड के नीचे लाया | और फिर धीरे-धीरे उसकी गुलाबी और कसी सी चूत में अपना लंड डाल के बड़े ही मौज के साथ में चोदने लगा | और वो भी भी दोस्तों जोर-जोर से आःह्ह आह्ह आह्ह आह्ह आह्ह उन्ह उन्ह उन्ह ईह्ह ईह्ह इह्ह इह्ह्ह ओह्ह ऊह्ह ओह्ह ओह्ह ओह्ह ओह्ह हाहाह हाहा अहहाह अहः अहः उन्ह उन्ह उन्ह उन्ह उन्ह की सिस्कारिया ले रही थी | थोड़ी देर के बाद मैं दोस्तों उसकी चूत में ही झड गया | और फिर उसने मेरे लंड को अपने मुह में लेकर फिर से चाटने लगी |

 मेरा लंड एक बार फिर खड़ा हुआ और मेरा मन उसे फिर चोदने को कहा | इस बार में मैने उसकी गांड मारनी चाही | मैने उसे घोड़ी बनाया और उसके बाद में उसकी कसी गांड में अपने लंड को प्रवेश किआ | सुरु-सुरु में मेरा लंड पूरा अन्दर नही जा पाया क्योकि उसकी गांड बहुत कसी हुई थी | थोड़ी देर में मैने अपना पूरा लंड उसकी गांड में डाल दिया | और अन्दर-अन्दर बाहर करने लगा | और वो इस बार कुछ जोरो से ही अहः अहः अहः आहा अहः अहः उन्ह उन्ह उन्ह उन्ह उन्ह उन्ह इहिह्ह इही हीह ओह्ह ओह्ह ओह्भ की सिस्कारिया ले रही थी क्योकि उसकी इस बार फट रही थी |

दोस्तों इस बार मुझे इतना मजा आया रहा था की मैं उसकी गांड में ही झड गया था | बाद मैं हम दोनों ने अपने-अपने कपडे पहने और सुबह के 3 बजे अपने-अपने घर को चले गये | तो दोस्तों ये थी मेरी जिन्दगी की एक दम सही कहानी इस तरह से मैने अपने मैथ के टीचर की लड़की को चोदा | और आज भी जब एक अच्छा सा मौका मिलता है तो मैं उसे चोदता हूँ | आशा करता हूँ की आप लोगो को मेरी ये कहानी अच्छी लगेगी |

गाँव के लड़के से चुद गयी | xstoryhindi

गाँव के लड़के से चुद गयी | xstoryhindi

हेल्लो दोस्तों मैं आज आप लोगो के सामने अपनी एक सच्ची कहानी को लेकर आई हूँ | मैं सेक्सी कहानी अभी कुछ महीनो से पढ़ती आ रही हूँ और मुझे सेक्सी कहानी पढना बहुत अच्छा लगता है | मैं जब कहानी पढ़ती हूँ तो मेरी चूत गीली हो जाती है और मेरा मन होता है की मैं किसी के लंड को अपनी चूत में लेकर चुद जाओं | 

दोस्तों मैं कहानी को शुरू करने से पहले अपने बारे में बताना चाहती हूँ | मेरा नाम रिंकी है और मैं रहने वाली लखनऊ की हूँ | मेरी उम्र 21 साल है और मेरा रंग गोरा है | मैं दिखने में बहुत हॉट लगती हूँ | मेरा फिगर बहुत सेक्सी है | मेरे बड़े बड़े बूब्स और बड़ी चौड़ी गांड है जिसको देखकर किसी का भी लंड खड़ा हो जाये | मैं अभी पढाई करती हूँ और | मैं जो आज कहानी आप लोगो के सामने पेश करने जा रही हूँ ये मेरी पहली कहानी है तो मैं आप सभी लोगो से उम्मीद करती हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आएगी और इस कहानी को पढने में मज़ा भी बहुत आएगा |
गाँव के लड़के से चुद गयी | xstoryhindi

 ये कहानी तब की है जब मैं 19 साल की थी और उस टाइम मेरी चढ़ती जवानी थी जिसकी वजह से मेरा बदन ज्यादा ही भरा हुआ था जिससे में ज्यादा सेक्सी लगती थी | मेरे बूब्स काफी गोल और बड़े थे | मेरी चढ़ती जवानी के मज़े सब लेना चाहते थे इसलिए मेरे स्कूल के लड़के मेरे पीछे पड़े रहते थे | वो लड़के मुझे लाइन बहुत मारते थे और जब वो लड़के मुझे घूरते थे तो मुझे अच्छा नही लगता था | 

जब तक मैं किसी को अपना बॉयफ्रेंड न बना लेती तब तक वो लड़के मेरा पीछे नही छोड़ने वाले थे तो एक लड़का मेरी क्लास में पढता था | वो मेरा अच्छा दोस्त था और उसने कभी मुझसे नही कहा की वो मुझसे प्यार करता है | मुझे वो पसंद भी था तो मैंने उसे अपना बॉयफ्रेंड बना लिया | जब ये बात लडको को पता चली तो वो सब मुझे परेशान करना बंद कर दिया | फिर कुछ दिन के बाद मेरे कॉलेज में कुछ दिनों की छोट्टी थी तो मेरी बुआ जी गाँव में रहती है |

 वो मुझे गाँव घुमने के लिए अक्सर बुलाया करती थी तो उस टाइम मेरे स्कूल में छोट्टी भी थी तो मैं उन दिनों अपनी बुआ के घर चली गयी | मैं जब अपनी बुआ के गाँव पहुची थी तो पहले बुआ को फ़ोन किया क्यूंकि मैं अपनी बुआ के घर पहली बार गयी थी | तब बुआ ने एक लड़के को मुझे लेने के लिए भेजा | जब वो लड़का मुझे लेने के लिए आया तो मैं उसे देखती ही रह गयी |

 वो दिखने में बहुत स्मार्ट था और उसकी बॉडी भी ठीक ठाक थी | तब उसने मुझसे मेरा बेग माँगा तो मैंने कहा नही ठीक है मैं पकड लुंगी तो उसने कहा नही दे दो मैं ले लेता हूँ | तब उसने मेरा बेग ले लिया वो लड़का मुझे दिखने में बहुत सुन्दर लग रहा था | फिर मैंने उससे उसका नाम पूछा तो उसने अपना नाम दीपक बताया | फिर वो चलने लगा तो मैंने उससे कहा की आप बहुत स्मार्ट हो तो वो बोला हाँ लोग कहते हैं की मैं बहुत अच्छा लगता हूँ | मैंने उससे कहा आप क्या करते हो तो दीपक ने बताया की मैं पढाई करता हूँ और 12 वीं में हूँ तो मैंने कहा में भी 12 वीं में पढ़ती हूँ |


फिर मैंने उससे कहा आप कुछ मुझसे नही पूछोगे क्या तो वो बोला की मैं आपके बारे में कुछ जानना नही चाहता हूँ | दोस्तों तब मैंने उससे कहा में इतनी तो बुरी भी नही हूँ की तुम मेरे बारे में जानना नही चाहते | वो बोला नही ऐसी बात नही है मैं किसी लड़की से आज तक बात नही की ना इसलिए बात करने में डर लगाने लगता हैं | दोस्तों वो मुझे बहुत अच्छा लगा और इसलिए मैंने सोच लिया की मैं इसे अपना बॉयफ्रेंड बना लेती हूँ | 

वो बहुत सर्मिला था और मुझे पसंद भी बहुत था तो मैंने उससे काहा की ठीक है तुम डरते हो तो मैं तुम्हारा डर दुरी कर दूंगी | फिर मैंने उससे कहा अभी गाँव कितनी दूर है तो उसने कहा जी अभी गाँव में ही चल रहे हैं बस घर आने वाला है | उसके 2 मिनट में हम घर पहुच गए और जब मैं बुआ के घर पहुची तो देखा की बुआ का घर तो बहुत अच्छा बना है | तब बुआ ने मुझे अपने साथ छत पर ले गयी क्यूंकि बुआ जी ऊपर बने कमरों में रहती थी |

 वो मुझे छत पर ले गयी और मेरे लिए चाय बनाई फिर मैं और दीपक एक साथ बैठ कर चाय पी साथ में बुआ बैठी थी | फिर वो बोला चाची में घर जा रहा हूँ | जब वो घर चला गया तो मैंने बुआ से पूछा ये लड़का कौन है | बुआ ने मुझे बताया की वो घर के पीछे रहता हैं और बहुत अच्छा लड़का हैं पढने में भी अच्छा लड़का है | वो कभी कभी घर आया करता था | मैं उसे बहुत पसंद करने लगी थी इसलिए उससे बात करने की कोशिश किया करती थी | पर वो बहुत ज्यादा ही सर्मता था जिसकी वजह से मुझसे दूर ही रहता था | 

दोस्तों एक दिन की बात है जब वो बुआ के घर बैठ कर टीवी देख रहा था और मेरी बुआ नीचे कपडे धुल रही थी | मैं उसके पास जाकर बैठ गयी और वो मुझसे दूर हो गया तब मैंने उसके हाथ को पकड कर अपनी कमर पर रख दिया | दोस्तों उसका उस टाइम चेहरा देखने के काबिल था | वो ऐसे कांपने लगा जैसे की करंट लग गया हो | फिर मैंने उसको पकड लिया और उसकी होठो पर अपंनी होठो को रख दिया | मैं उसकी होठो को 1 मिनट तक चूसती रही |

 फिर वो सीधे अपने घर चला गया | उस दिन से वो मुझसे बात भी करता था और मैं उसे किस भी करती थी | अब जब मैं उसको किस करती तो वो भी मुझे करता और साथ में मेरे बूब्स को कपडे के ऊपर से दबा देता था | जब वो मेरे बूब्स को दबता तो मुझे बहुत अच्छा लगता था | अब हम और दीपक एक दुसरे के साथ इतना तो कर लेते थे पर मेरा मन उसके साथ सेक्सी करने का होता था | 

फिर एक दिन की बात है जब मैंने उसे रात को अपने कमरे में बुलाया | मेरे पास वाले कमरे में बुआ जी रहती थी और उसके पास वाले कमरे में मैं अकेली रहती थी | उस रात जब वो मेरे कमरे में आया तो मैंने अन्दर से दरवाजा बंद कर लिया | फिर मैं उसके साथ बेड पर लेट गयी और वो मेरे साथ ले गया हम दोनों ऐसे ही कुछ देर तक बात करने के बाद एक दुसरे को किस करने लगे |

 मैं उसकी होठो को मुंह में रख कर चूस रही थी और वो मेरी होठो को मुंह में रख कर चूस रहा था | वो मेरी होठो को कुछ देर तक चूसने के बाद मेरे कपडे निकालने लगा और मैंने उसके कपडे निकाल दिए | फिर कुछ ही देर में हम दोनों एक दुसरे के सामने बिना कपड़ो के आ गए क्यूंकि मैं ब्रा और पैंटी नही पहनती हूँ | जब हम दोनों बिना कपडे के आ गए तो वो मेरे एक दूध को मुंह में रख कर चूसने लगा और दुसरे दूध को हाथ में पकड कर मसलने लगा | वो जब मेरे बूब्स को दबा रहा था तो मेरी सांसे तेज हो गयी थी | वो मेरे बूब्स को चूसने के साथ मेरे एक बूब्स के निप्पल को ऊँगली से घुमा रहा था | वो मेरे बूब्स को चूसने के साथ अपने हाथ की ऊँगली को मेरी चूत में घुसा दिया |

 फिर वो मेरी चूत में ऊँगली को जोर जोर से अन्दर बाहर करने लगा | वो मेरी चूत में अपनी ऊँगली को ऐसे ही कुछ देर तक अन्दर बाहर करने के बाद | उसने मेरी टांगो को पकड कर अपनी और खीच लिया और मेरी चूत के मुंह पर अपने लंड को रख कर घुसा दिया | उसका लंड जैसे ही मेरी चूत में घुसा तो मेरे मुंह से जोरदार सिसकियाँ निकल गयी | वो मेरी कमर को पकड कर धीरे धीरे अन्दर बाहर करने लगा | 

वो मुझे धीरे धीरे धक्को के साथ चोद रहा था और मैं मस्त होकर चुद रही थी | वो कुछ देर तक धीरे धीरे अन्दर बाहर करने के बाद धक्को की स्पीड तेज कर दी जिससे मेरे मुंह से हाँ हाँ अह अह उई हाँ उई हाँ उई अह उई हाँ उई….. आ आ आ उई हाँ सी उई सी सी उई… की सिसकियाँ लेने लगी | मेरी चूत में जोर जोर से धक्के मार रहा था जिससे मेरे बूब्स हिल रहे थे | वो मेरे हिलते बूब्स को देख कर जोरदर धक्के मार रहा था | 

वो मुझे ऐसे ही कुछ देर तक चोदने के बाद मुझे घोड़ी बना दिया और फिर मेरी चूत में पीछे से लंड को घुसा कर जोरदार धक्को के साथ अन्दर बाहर करने लगा | वो मेरी कमर को पकड कर जोरदार धक्के मार रहा था और मैं अपनी चूत को आगे पीछे करती हुई चुद रही थी साथ में उई हाँ उई अह उई हाँ उई….. आ आ आ उई हाँ सी उई सी सी उई… की सेक्सी आवाजे कर रही थी | 

वो मुझे ऐसे ही 10 मिनट तक चोदता रहा | फिर मेरी चूत से लंड को निकाल कर झड़ गया | उस रात मुझे बहुत मज़ा आया था और वो अपने कपडे पहन कर अपने घर चला गया था | उसके बाद मैं और दीपक ने कई बार चुदाई की और उसके कुछ दिन बाद में अपने घर चली आई | दीपक से मेरी बाते आज भी होती है | धन्यवाद……………..

गर्लफ्रेंड को उसकी दूकान में चोदा | xstoryhindi

 गर्लफ्रेंड को उसकी दूकान में चोदा | xstoryhindi 

हैलो दोस्तों मेरा नाम अमन राणा है और मैं जोधपुर का रहने वाला हूँ | मेरी उम्र 20 साल है और मैं अभी बी.ए. कर रहा हूँ | वैसे मेरा मन तो बॉलीवुड में हीरो बनने का है और मैं उसके लिए कुछ न कुछ करता ही रहता हूँ | अभी मैं मॉडलिंग कर रहा हूँ और अगर मैं मॉडल हूँ तो ज़ाहिर है अच्छा तो मैं दिखता ही हूँ |
गर्लफ्रेंड को उसकी दूकान में चोदा | xstoryhindi

 मैं नियमित रूप से जिम भी जाता हूँ इसलिए बॉडी भी अच्छी है तो ले दे के मैं अच्छा ही लगता हूँ | मुझे इस बात का फायदा भी बहुत मिलता है क्योंकि बहुत सी लड़कियां मुझे लाइन देती है और फिर मैं तो हूँ ही ठरकी | मेरी ज़िन्दगी में बहुत सी खूबसूरत घटनाएँ घटी है जिनमें से कुछ मैं ज़िक्र करता हूँ |

एक बार की बात है हमारे जोधपुर के एक मॉल में शो चल रहा था जिसमें मैं रैंप वॉक कर रहा था | जैसे ही मैं आगे पहुंचा तो एक लड़की ने आवाज़ लगाई ओए हीरो और मैं उसकी तरफ देखने लगा | मैंने उसको देखा और वो तो मुझे देख ही रही थी और फिर मैं घूमकर वापस चला गया | 

थोड़ी देर बाद मैं नीचे वाले फ्लोर पर खड़ा था तो मेरी नज़र ऊपर वाले फ्लोर कि तरफ गई तो मैंने देखा कि वही लड़की मुझे देख रही है | मैं भी उसकी तरफ दिलेरी से देखने लगा तो उसने मुझे आँख मार दी | मेरे अन्दर ख़ुशी की लहर दौड़ गई क्योंकि वो लड़की भी कुछ कम माल नहीं थी | तो मैंने अपने दोस्तों से कहा चलो ऊपर चलते है और उनके साथ ऊपर वाले फ्लोर पर चला गया | मैं अपने दोस्तों के साथ खड़ा था और वो मुझसे थोड़ी दूर खड़ी थी | तो मैंने अपने दोस्त से कहा देख क्या मस्त पीस है तो दोस्त ने कहा हाँ भाई लेकिन तेरे हाँथ नहीं आएगी | आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है | 

मैंने कहा चल लगी शर्त अगर मैंने इसको दो दिन में नहीं पटाया तो जो तू बोले | फिर मैं उसकी तरफ देखा और जैसे ही उसने मेरी तरफ देखा तो फिर मैं उसके पास चला गया | मैं उसके पास गया और उसका नाम पूछा तो उसने अपना नाम रुपंशी बताया | दिखने में तो बहुत गज़ब की थी और उसको पास से देखकर तो मैं उसपे और ज्यादा फ़िदा हो गया | मेरे दोस्त मुझे आँखें फाड़ फाड़कर देख रहे थे 

| तो मैंने उससे उसका नंबर लिया और फिर मैंने उसके कंधे पर हाँथ रखा और उसके पास जाकर उसके कान में कहा तुम बहुत अच्छी लग रही हो और फिर मैं जाने लगा | उसने मुझे आवाज़ लगाई और कहा थैंक यू बाय | फिर मैं अपने दोस्तों के पास गया और जिससे मैंने शर्त लगाई थी उसने शर्त कैंसिल कर दी | फिर थोड़ी देर बाद मैंने उसको फ़ोन लगाया और पूछा कि अभी भी वहीँ हो ? तो उसने कहा हाँ | तो मैंने उससे पूछा अच्छा मेरे साथ घुमने चलोगी तो उसने पूछा कहाँ लेकर चलोगे ? तो मैंने बस वहीँ चलेंगे जहाँ पिज़्ज़ा मिलता हो | तो उसने हाँ कर दी और मैं उसे लेने फिर से मॉल गया और उसे लेकर पिज़्ज़ा हट चला गया |

मैंने उसे पिज़्ज़ा खिलाया और खूब सारी बातें की | दोस्तों सच बता रहा हूँ जो भी लड़का आ रहा था वो उसे देख रहा था और जो भी लड़की आ रही थी उसकी नज़रें मेरे ऊपर थी और हम दोनों एक दुसरे को देख रहे थे | हाँ बस मेरी नज़र थोड़ी बहुत यहाँ वहां हो रही थी लेकिन मज़ा बहुत आ रहा था | फिर मैंने उसके हाँथ पे हाँथ रखा और उससे कहा हमें मिले शायद एक दिन भी नहीं हुआ है लेकिन ऐसा लगता है जैसे बहुत पहले से जानता हूँ और मैं तुमसे एक बात कहना चाहता हूँ इसलिए क्योंकि हो सकता है आज के बाद तुम मुझे कभी न मिलो इसलिए मैं अभी तुमसे कहना चाहता हूँ आई लव यू | उसने कहा ये कब हुआ ? तो मैंने जब तुम्हें पहली बार देखा और जैसे ही देखा तो बस देखता ही रह गया | तो उसने कहा कहते जाओ अच्छा लग रहा है तो मैंने कुछ और लाइन चिपकाई | मैंने कहा जब मैं तुम्हें देखा तो ज़िन्दगी जैसे रुक सी गई और भी बहुत कुछ फिर उसने कहा अरे बस बस | फिर उसने नज़रें झुकाई और कहा मेरी भी हाँ है |

फिर हम दोनों उस दिन बॉयफ्रेंड गर्लफ्रेंड हो गए और रोज़ का मिलना जुलना घूमने जाना और भी बहुत कुछ होता रहा | अब बारी आती उस चीज़ की जो आप पढ़ना चाहते है चुदाई | तो रुपंशी की एक दूकान थी जिसमें ज्यादातर उसकी मम्मी बैठती थी और जब रुपंशी को कोई काम नहीं होता था तो वो बैठती थी |

 3 मार्च 2017 दोपहर के लगभग 1 बजे मैं उसकी दूकान पर पहुंचा और अन्दर गया | उस दिन वो अकेली दूकान में बैठी थी तो मैं अन्दर गया और जाके उसके पास बैठ गया | उसने पूछा आज यहाँ कैसे आना हुआ जानू ? तो मैंने कहा हमें मिलते जुलते बहुत दिन हो गए है | तो उसने कहा सिर्फ 6 दिन ही तो हुए है तो मैंने कहा अरे जानू 6 दिन भी कम नहीं होते और इतना बोलकर उसके करीब जाने लगा | उसने मुझसे दूर होकर कहा अभी नहीं देख नहीं रहे दूकान खुली है कोई आ आगे तो | तो मैं गया और उसका शटर नीचे कर दिया और फिर जाकर उससे कहा अब कोई और प्रॉब्लम है तो बताओ ? तो उसने कहा तुम मानते क्यों नहीं हो ? तो मैंने कहा क्या मैं अपनी जानू के साथ कुछ नहीं कर सकता ? तो उसने कहा ठीक है और बस जैसे ही उसका ठीक है मेरे कान में गया मैं एकदम से उसे किस करना शुरू दिया | आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है | 

वो आराम से बैठी हुई थी और मैं बस उसके होंठ चूसे पड़ा था वो बिलकुल भी हवस नहीं दिखा रही थी | तो मैंने उसकी चूत पर हाँथ रख दिया और दबा दिया | उसके अन्दर पता नहीं क्या हुआ ? उसने मुझे बहुत जोर से पकड़ लिया और जमके किस करना शुरू कर दिया और मैं बस ये सोच रहा था कि मैंने तो ऐसा कुछ नहीं किया | लेकिन जो हो रहा था अच्छा ही था और मैं भी तो यही चाहता था | अब मैं भी किस करने में उसकी बराबरी करने लगा | फिर मैंने उसके टॉप के अन्दर हाँथ दाल दिया और उसके दूध दबाने लगा और किस करने में तो मैं लगा ही हुआ था | फिर मैंने उसका टॉप ऊपर किया और उसके दूध चूसने लगा और वो उम्म्मम्म उम्मम्मम्म उम्मम्मम्म म्मम्मम्मम उम्म्मम्म ऊफ्फ्फ्फ़ उफफ्फ्फ्फ़ म्मम्मम्म उम्म्मम्म करने लगी | वाह क्या गोरे गोरे दूध थे बिलकुल मलाई जैसे और चूसने में जो मज़ा आ रहा था आहा क्या बताऊँ | फिर मैंने अपनी पैन्ट से अपना लंड बाहर किया और उसने जैसे ही मेरा लंड देखा तो होंठ दबाते हुए छूने लगी |

फिर वो घुटनों पर बैठ गई और मेरा लंड पकड़कर हिलाते हुए चाटने लगी | फिर उसने मेरा लंड मुंह में डाला और चूसने लगी | वो लंड ऐसे चूस रही थी जैसे ब्रश कर रही है पुरे मुंह में यहाँ से वहां | मेरा माल तो उसके मुंह में झड़ गया | उसने माल थूका और कहा बता नहीं सकते थे तो मैंने कहा अच्छा लगता है | फिर मैंने उसकी कुर्सी पर बैठाया और उसका पजामा उतार कर उसकी पैंटी के ऊपर से जीभ फिराने लगा | 

फिर मैंने उसकी पैंटी किनारे की और उसकी चूत चाटने लगा और वो अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह ह्ह्हह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह उह्ह्हह्ह्ह्ह उह्ह्ह्हह्ह उफफ्फ्फ्फ़ आआआ आआआ आह्ह्ह्हह्ह करते हुए अपने दूध दबाने लगी | फिर मैं उसकी चूत चाटते हुए उसके दूध दबाता रहा और वो अह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह करते हुए सिसकियाँ लेती रही | अब मेरा खड़ा हो चुका था और मैं चुदाई के लिए तैयार था तो मैं उठा और उसकी पैंटी को किनारे पकड़ के लंड उसकी चूत में दाल दिया |

जैसे ही मैं लंड उसकी चूत में घुसाया उसने मुझे जोर से पकड़ लिया और अपनी तरफ खींचने लगी लेकिन मैं झटके मारने में लगा हुआ था और वो अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह ह्ह्हह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह उह्ह्हह्ह्ह्ह उह्ह्ह्हह्ह उफफ्फ्फ्फ़ आआआ आआआ आह्ह्ह्हह्ह आह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह आआआ हह्ह्ह्ह कर रही थी | फिर मैं थोडा सा रुका तो वो कहने लगी बस हो गया |

 तो मैंने एक जोर का झटका मारा और जोर जोर से उसे चोदने लगा और वो चिल्लाते हुए अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह ह्ह्हह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह उह्ह्हह्ह्ह्ह उह्ह्ह्हह्ह उफफ्फ्फ्फ़ आआआ आआआ आह्ह्ह्हह्ह आआआ करती रही | थोड़ी देर में मेरा झड़ने को हुआ तो मैंने लंड बाहर किया और उसके मुंह पर पिचकारी मार दी | फिर मैंने अपने कपडे पहने और चला गया | उसके बाद कई बार मैंने उसको कभी दूकान में तो कभी होटल में चोदा और फिर मैंने कोई और पटा ली और उसे छोड़ दिया | लेकिन उसको चोदने में जो मज़ा आता था वो अभी वाली में नहीं आता लेकिन जो भी है ठीक है | तो दोस्तों आशा करता हूँ कहानी पसंद आई होगी | आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है | 

Saturday, September 7, 2019

एक चूत की दो लंड से सेवा की | xstoyhindi

                    एक चूत की दो लंड से सेवा की |xstoyhindi


 नमस्कार दोस्तों कैसे हो आप सभी लोग ? मैं उम्मीद करता हूँ मेरे दोस्त ठीक ही होगे और लड़कियों की मस्त चुदाई करते होगे और लड़कियों की चूत और गांड को फाड़ कर उसकी आँखों का पानी बाहर निकाल देते ही होगे | मैं भी यही उम्मीद करता हूँ की आप सभी लोग लड़कियों की मस्त चुदाई करते होंगे और लड़कियों को खुश रखते होंगे | मैं भगवान से प्राथना करता हूँ की आप सभी लोगो को ऐसे ही खुश रहें और रखें |
एक चूत की दो लंड से सेवा की | xstoyhindi  
 मैं कहानी शुरू करने से पहले अपने बारे में बता देता हूँ | मेरा नाम सुमित हैं | मेरी उम्र 28 साल है | मैं रहने वाला जापन से हूँ | मैं अभी बी कॉम सेंकेंड इयर में पढता हूँ | मेरी हाईट 5 फुट 8 इंच है | मेरे लंड का साइज़ 6 इंच और मोटा 2 इंच है | मैं दिखने में बहुत गोरा हूँ और स्मार्ट भी हूँ | आज दोस्तों मैं एक कहनी फिर से लेकर आया हूँ | मैं उम्मीद करता हूँ की आप लोगो को ये कहानी पसंद आयेगी और मुझे अपने आप पर इतना यकीन है की आप लोगो को मेरी ये कहानी पढने में मज़ा भी आयेगा | आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है | 


अब मैं कहानी शुरू करता हूँ | ये कहानी अभी कुछ दिन पहले की हैं | मैं हर दिन किसी न किसी लड़की को चोद ही देता था क्यूंकि मैं लड़की पटाने में एक्सपर्ट हूँ अगर मुझे कोई लड़की पसंद आ जाती है तो मैं उसकी चूत चोदने के बाद ही उसका पीछा छोड़ता हूँ और लड़की मुझसे जल्दी पट जाती है | वेसे तो मैं कॉलेज में पढता हूँ और मेरी कॉलेज में भी 2 गर्लफ्रेंड हैं | मेरी एक गर्लफ्रेंड का नाम लक्ष्मी है और दूसरी का नाम पूजा हैं | अभी एक दिन की बात है जब मैं पूजा को कॉलेज के ही टॉयलेट में ले जाकर ठुकाई कर दी थी | 

मैंने उसकी उस दिन इस तरह से ठुकाई की थी की मेरे क्लास के सब लोग जान गए थे की पूजा की किसी ने मस्त चुदाई की हैं | क्यकी मैंने उसकी इस तरह से चुदाई की थी की वो चल भी नही पा रही थी | उसी दिन की बात हैं जब मैं पूजा की ठुकाई करने के बाद अपने दोस्त की शॉप पर गया था | तब मेरे दोस्त ने बताया की यार एक लड़की हैं जो बहुत बड़ी वाली रंडी है पर वो मुझसे चुदने के लिए तैयार ही नही हो रही है | तू ही कुछ कर की साली तैयार हो जाये तो हम दोनों उसकी चुदाई करते हैं |

 मैं आप लोगो को अपने दोस्त के बारे में बता देता हूँ | मेरे दोस्त का नाम अमित है और उसकी जनरल स्टोर की शॉप है | वहां पूरा दिन एक से एक माल आया करते हैं | एक दिन की बात है जब मैं उसकी शॉप पर ही बैठा था की शबा आ गयी और वो मुझे देख कर बोली तुम यहाँ कैसे उस टाइम शॉप पर मैं और मेरा दोस्त ही था तो मैंने भी कह दिया तुम्हरा ही इंतजार कर रहा था | मैं आप लोगो को बता देता हूँ की शबा एक बहुत मादरचोद लड़की है और वो रूपये पर अपनी चूत और गांड चुदवाती है |

 मैं उसकी ठुकाई कर चूका हूँ और मैंने उसकी मस्त चुदाई की थी | फिर वो कुछ देर बाद चली गयी तो मेरे दोस्त ने बताया की तुम इसे कैसे जानते हो तो मैंने बताया की इस मादरचोद की ऐसी चुदाई की थी की आँखों से पानी निकल आया था | तब मेरे दोस्त ने बताया की यार यही तो है मैं इसकी चुदाई करना चाहता हूँ | मैं इसको 3 हजार रूपये भी दे रहा था पर साली तैयार ही नही हो रही है | तब मैंने अपने दोस्त से कहा मैं इसकी चूत को छोड़ इसकी गांड भी दिलाऊंगा | रात काफी हो गयी थी तो मैं अपने घर चला आया था और खाना खाकर सो गया | फिर जब मैं सुबह उठा और ब्रश करने के बाद नहा कर नाश्ता किया | मेरे फ़ोन पर कोई कॉल आ रही थी और मैंने देखा तो अमित की थी |आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है

 अमित — ने मुझसे पूछा कहाँ हो तुम |
 मैं — घर हूँ और नस्ता कर रहा हूँ तुम कहा हो बताओ |
 अमित — मैं शॉप पर हूँ आ जाओ कुछ काम है और जल्दी आना |
 मैं — ठीक है फ़ोन कट करू अभी 10 मिनट में तुम्हारी शॉप पर पहुचता हूँ शॉप पर ही रहना |
 अमित — ठीक है शॉप पर हूँ |
 फिर मैं कुछ ही देर में उसकी शॉप पर पंहुचा तो उसने मुझसे कहा तो तुमने क्या प्लान बनाया | तब मैंने कहा कैसा प्लान तो उसने कहा यार मैं चुदाई करना चाहता हूँ शबा की तो मैंने उससे कहा तुम एक कमरा कर लो और बियर वगैरह ला कर रखो मैं उस मादरचोद को लेकर आता हूँ |
 मैंने शबा को फ़ोन किया और कहा जानेमन कहाँ हो तुम |
 शबा — बेबी घर हूँ क्या हुआ आज बहुत रोमांटिक मूड में लग रहे हो |
 मैं — जानेमन तुम्हारे लिये पार्टी रखी है जल्दी से आ जाओ |
 शबा — कहाँ हो तुम बताओ |
 मैं — तुम्हारे घर के बाहर |
 शबा — ठीक है 2 मिनट में आती हूँ |

 फिर मैं उसको लेकर अमित के बताये कमरे पर लेकर पहुच गया | फिर मैंने और अमित ने बियर पी साथ में शबा ने भी खूब बियर पी थी | फिर मैंने अमित से कहा की तुम कपडे उतर कर तैयार हो मैं इसको गर्म करता हूँ और मैं शबा को अपनी बाँहों में भर कर उसके गले में किस करने लगा साथ में उसके कपड़े के अन्दर हाथ डाल कर उसके बूब्स को सहलाने लगा | मैं उसकी होठो को चूसने के साथ में उसके कपडे निकलने लगा तो उसने अपने हाथो को ऊपर कर दिया और मैंने उसके कपडे निकाल दिये | वो 2 मिनट में ही मेरे और मेरे दोस्त अमित के सामने ब्रा और पेंटी में आ गयी | मैं उसकी होठो को चूसने के साथ में उसकी ब्रा के ऊपर से उसके निप्पल को ऊँगली से मसलने लगा जिससे वो 10 मिनट में ही गर्म हो गयी और सेक्स करने में साथ देने लगी | मैं उसकी ब्रा का हुक खोल दिया जिससे उसके बड़े बूब्स नीचे लटक गए क्यकी उसके बूब्स बहुत लोगो ने दबाये थे इसलिए उसके बूब्स अब बहुत ढीले हो गए थे | मैं उसके एक दूध को मुंह में रख कर चूसने लगा तो उसके मुंह से उई उई उई आआआआ…. उई माँ उई माँ.. सी सी सी.. ई ई ई ई हाँ हाँ हाँ…. की सिसिकियाँ लेने लगी |

 मैं उसको बेड पर लेटा कर उसके दोनों दूधो को हाथ में पकड कर मसलते हुए उसके निप्पल को मुंह से पकड कर खीच खीच कर चूसने लगा तो वो उई उई उई… हाँ हाँ हाँ हाँ… सी सी सी… ऊऊऊ… आआआ…की सिसिकियाँ लेती हुई अपने बूब्स को चूसा रही थी | 

अमित उसकी टांगो को फैला कर उसकी चूत के दाने को मुंह से पकड़ कर खीच खीच कर चूसने लगा तो उसके मुंह से ऐसे ही जोर जोर से उई उई उई हाँ हाँ हाँ…. ऊऊऊ.. ओह्ह्ह ओह्ह ओह्ह… सी सी सी सी… की सिसिकियाँ लेती हुई अपने एक दूध के निप्पल को मसलने लगी | मैं और अमित उसको ऐसे ही करते रहे जिससे उसके अन्दर आग लग गयी और वो गर्म गर्म सांसे लेती हुई उई उई उई हा हा हा ऊऊ ऊ ऊ… अहह हह .. करने लगी | मैंने उसके अन्दर इतनी आग भर दी की अब वो चुदने के लिए तदपने लगी | फिर मैंने अपने कपड़े निकाल दिए और उसके हाथ में अपने लंड को पकड़ा दिया और अमित ने अपना लंड पकड़ा दिया | फिर वो घुटने पर बैठ कर मेरे और उसके लंड को मुंह में रख कर चूसने लगी | आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है

 वो पहले मेरे लंड को मुंह में रख कर जोर जोर से चूसने लगी और एक हाथ में अमित के लंड को पकड कर हिला रही थी | फिर वो मेरे लंड को हिलाने लगी और अमित के लंड को मुंह में रख कर अन्दर बाहर करती हुई चूसने लगी | वो ऐसे ही मेरे और अमित के लंड को मुंह में रख कर 10 मिनट तक चूसती रही |


फिर अमित बेड पर नीचे लेट गया और उसके लंड पर शबा बैठ कर चुदने लगी | वो उसकी कमर को पकड कर नीचे से जोर जोर से धक्के मारने लगा जिससे उसकी चूत में उसका 7 इंच का लंड पूरा घुस गया | 

वो अमित के 7 इंच के लंड को पूरा अन्दर लेकर जोर जोर से चुदने लगी साथ में हाँ हाँ हाँ.. उई उई उई… हा हा हा .. सी सी सी.. उई माँ उई माँ उई माँ…. की सिसिकियाँ लेती हुई चुदने लगी | फिर अमित ने उसकी चूत से लंड को निकाल कर उसकी गांड में डाल कर दिया और फिर मैंने अपने लंड को उसकी चूत के मुंह पर रखा तो उसकी चूत गीली थी और मैंने उसकी चूत में एक ही धक्के में अन्दर घुसा दिया तो उसके मुंह से उई उई उई.. हाँ हाँ हाँ.. सी सी सी सी.. उई माँ उई माँ उई मा उई माँ… ऊऊउ आआआ की सिसिकियाँ निकल गयी मैं उसको ऐसे ही जोरददार धक्के के साथ उसकी चूत को चोदने लगा |

 मैं उसको इस कदर से चोदा की उसकी चूत का भोसड़ा बना दिया | इस तरह 20 मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों झड गए | फिर अमित ने उसे रूपये दिए और उसने रुपये ले लिए पर वो चलने की हालत मे नही थी क्यकी दो लंड लेने के बाद उसकी चूत और गांड का छेद बड़ा हो गया था | फिर मैं उसको छोड़कर अपने घर चला गया |
 मैं उम्मीद करता हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आई होगी | कहानी पढने के लिए धन्यवाद |

गर्लफ्रेंड के साथ उसकी बहन भी चुद गयी मुझसे | xstoryhindi

गर्लफ्रेंड के साथ उसकी बहन भी चुद गयी मुझसे | xstoryhindi
 मैं आज सेक्सी कहानी के पाठको के लिए अपनी एक सच्ची कहानी को लेकर आया हूँ | दोस्तों मेरी उम्र 25 साल है | मैं दिखने में सुन्दर लगता हूँ और मेरा शरीर भी ठीक ठाक है | दोस्तों मेरे लंड का साइज़ इतना है की मैं किसी को भी चुदाई का पूरा मज़ा दे सकता हूँ | मैं अपनी कहानी को आगे बढ़ाने से पहले अपनी गर्लफ्रेंड के बारे में बता देता हूँ | मेरी गर्लफ्रेंड का नाम सुनीता है | वो दिखने में गोरी है | आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है
गर्लफ्रेंड के साथ उसकी बहन भी चुद गयी मुझसे | xstoryhindi

उसका फिगर सेक्सी है | मैं उसको पहले भी कई बार चोद चूका हूँ | वो चुदने में मेरा पूरा साथ देती है | उसकी चूत हल्की गुलाबी कॉलर की है | उसके बूब्स ज्यादा बड़े तो नही है पर उसके बूब्स के ऊपर जो निप्पल है | वो काफी गोरे हैं | दोस्तों आज जो मैं कहानी लिखने जा रहा हूँ | मुझे आशा है की आप लोगो को मेरी ये कहानी पसंद आयेगी | इस कहानी को पढने में आप लोगो के लंड का पानी तो निकल ही जायेगा | अब मैं कहानी पर आता हूँ |

ये कहानी तब की है जब मैं उसके घर एक पार्टी में गया था | मैं उसके साथ कॉलेज में पढता था | वो और मैं साथ में इंजिनियर की पढाई कर रहे थे | उस टाइम मेरी कोई गर्लफ्रेंड नही थी और वो मुझे पसंद करती थी | एक दिन की बात है जब सुनीता ने मुझे बतया की वो मुझसे प्यार करती है | मैं भी उसे पसंद करता था इसलिए मैंने भी हाँ कह दी | उस दिन के बाद से हम दोनों एक दुसरे से मिलने लगे | अब मैं सुनीता के घर भी जाया करता हूँ |

 सुनीता के घर में उसके पापा मम्मी रहते है और उसकी एक छोटी बहन है | जिसका नाम सुषमा है | सुषमा अब 18 साल की हो गयी है | दोस्तों में अपनी कहानी को आगे बताने से पहले आप लोगो को सुनीता की बहन के बारे में बता देता हूँ | क्यूंकि मेरी कहानी की हिरोइन सुषमा भी है | सुषमा दिखने में बिलकुल सोने की तरह चमकती है | उसका फिगर सेक्सी है | उसके बूब्स सुनीता की तरह बड़े नही है पर वो सुनीता से भी मस्त लगती है |

एक दिन की बात है जब सुनीता के घर में एक छोटी से पार्टी थी | मैं उसके घर जाया करता था इसलिए सुनीता की मम्मी ने मुझे भी बुलाया था | मैं उस दिन उसके घर गया और पार्टी में इन्जॉय किया | फिर जब मैं अपने घर वापस आ रहा था | उस टाइम रात के 1 बज रहे थे | जो और भी कुछ लोग आये थे वो सब जा चुके थे | पार्टी में मैं और सुनीता के घर केलोग ही थे | तब सुनीता की मामी ने मुझसे कहा बेटा सब लोग चले गए हैं और रात ज्यादा हो गयी है तुम यहीं रुक जाओ | मैं आंटी को मना नही कर सकता था इसलिए मैं मान गया और सुनीता के घर ही रुक गया |

जब मैं रुक गया तो सुनीता के चेहरे पर एक अजीब मुस्कान थी | मैं समझ गया था की आज मुझसे चुदेगी | वैसे दोस्तों मैं सुनीता को इससे पहले भी उसी के घर में चोद चूका हूँ | उस रात भी सबके सो जाने के बाद सुनीता ने मुझे फ़ोन किया और कमरे में आने को कहा | मैं चुपके से सुनीता के कमरे में घुस गया और जब मैं उसके कमरे में पंहुचा तो सुनीता ने दरवाजा बंद लार लिया | फिर मेरे शर्ट के कालर पकड कर मुझे अपनी और फ़िल्मी अंदाज में खीच लिया | फिर उसने मेरी होठो पर अपनी होठो को रख कर मेरी होठो को चूसने लगी |

 वो उस दिन कुछ ज्यादा ही जल्दी में थी | वो मेरी होठो को अपने मुंह में रख कर चूसने लगी | मैं भी उसकी होठो को मुंह में रखकर चूसने लगा | हम दोनो कुछ देर तक ऐसे ही किस करते रहे | फिर उसने मेरे कपडे निकाल दिये और मैंने उसके कपडे निकाल दिए | अब मैं उसके सामने अंडरवियर में आ गया था और वो मेरे सामने ब्रा और पैंटी में थी |आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है

सुनीता मेरे लंड को अंडरवियर से निकाल कर अपने हाथ में पकड कर हिलाती हुई मुंह में रख कर चूसने लगी | वो मेरे लंड को मुंह में रख कर चूस ही रही थी की किसी की दरवाजे से आवाज आई | दोस्तों वो आवाज उसकी छुटी बहन सुषमा की थी | मेरी गांड तो उस दिन फट गयी थी और सुनीता ने मुझे चाद्दर के अन्दर कर दिया | फिर जाके दरवाजा खोला और उससे बोली की सुषमा मम्मी और पापा से मत कहना | 

वो उसे कुछ देर तक मानती रही | तब जाके सुषमा मान गयी पर वो सुनीता के कान में कुछ बोल कर चली गयी | फिर मैंने सुनाता से पूछा की सुषमा क्या बोल रही थी तो उसने बताया की वो मान गयी है | उसके 5 मिनट के बाद सुषमा सुनीता के कमरे में आई और मेरे ऊपर से चद्दर को हटा दिया | मेरा लंड अभी भी लोहे की तरह खड़ा था | वो मेरा लम्बा और मोटा लंड देखकर बोली ओ मई गॉड | 

मैं बोला की वहीँ से देखोगी या पकड कर देखोगी | वो तुरंत बिस्तर पर आ गयी और मेरे लंड को अपने हाथ में पकड कर हिलती हुई अपने मुंह में रख लिया और जोर जोर से चूसने लगी | वो मेरे लंड को मुंह में रख कर अन्दर बाहर करती हुई चूस रही थी | मैं उसके छोटे और गोल दूध को कपडे के ऊपर से हाथ को घुमाते हुए दबा रहा था | सुषमा मस्त होकर मेरे लंड को चूस रही थी | सुषमा मेरे लंड को अपने मुंह में रख कर 5 मिनट तक चूसती रही | फिर सुनीता भी सुषमा के साथ नीचे घुटनों के बल बैठ कर मेरे लंड को चूसने लगी | वो दोनों बहने मेरे लंड को एक एक करती हुई कुछ देर तक चूसती रही |

फिर मैंने सुषमा के कपडे भी निकाल दिए | वो मेरे सामने पूरी तरह से बिना कपडे के आ गयी | वो अभी ब्रा और पैंटी नही पहनती थी | जब सुषमा मेरे सामने बिना कपडे के खड़ी थी तो उसका जिस्म सोने की तरह चमक रहा था | मैं उसके छोटे और चिकने दूध को अपने मुंह में रख लिया और जोर जोर से दबाते हुए चूसने लगा | वो मेरे सर के बाल को सहलाती हुई लेटी थी | 

सुनीता उसकी टांगो को फैला कर उसकी चूत में अपनी जीभ को घुसा कर चाटने लगी | सुषमा सेक्सी आवाज में अ अ अ अ…. ऊ ऊ ऊ ऊ… ह ह ह ह ह… आ आया आ आ…. हंह हंह हंह हंह… की आवाजे कर रही थी | मैं उसकी ये आवाजे सुनकर और जोश में आ गया और उसके दूधो के छोटे निप्पल को अपने मुंह से दबा कर खीचने लगा | वो मस्त आवाज में अ अ अ…. ऊ ऊ ऊ ऊ… ह ह ह ह ह… आ आया आ आ…. हंह हंह हंह हंह… कर रही थी |

 मैं उसके बूब्स को ऐसे ही कुछ देर तक चूसने के बाद में मैंने उसके बूब्स को छोड़कर सुषमा की टांगो को पकड कर थोडा सा फैला दिया | फिर अपने लंड को उसकी चूत के मुंह पर रख कर उसकी चूत पर रगड़ने लगा | मैं उसकी चूत के छेद पर अपने लंड को रख दिया और उसकी चूत में धीरे से घुसाने लगा | उसकी चूत टाईट होने की वजह से मेरा लंड बाहर निकल आया | सुनीता उसके मुंह पर अपनी चूत को रख कर चूसा रही थी | सुषमा गर्म सांसे लेती हुई उसकी चूत को चाट रही थी |आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है

 मैंने अपने लंड पर थूक लगाया और सुषमा की चूत में थूक लगा कर उसकी चूत के छेद में अपने लंड को रख कर एक जोरदार धक्का मारा उसकी चूत में मेरे लंड घुस गया | वो दर्द की वजह से चीख पड़ी उई माँ मर गयी | सुषमा की आँखों में पानी आ गया | मैं बिना लंड को हिलाए हुए रुक गया और उसकी होठो पर अपनी होठो को रख कर मैं उसकी होठो क चूसने लगा | वो कुछ देर बाद मेरी होठो को चूसने लगी | 

तब मैं समझ गया की ये अब चुदने के लिए तैयार है | मैं फिर उसकी कमर को पकड कर अपनी और खीच लिया | फिर उसके दोनों दूध को पकड कर जोरदार धक्को के साथ अन्दर बाहर करते हुए उसको चोदने लगा | मैं उसको जोरदार धक्को के साथ 10 मिनट तक चोदता रहा | वो 10 मिनट तक चुदने के बाद बोली यार बाहर निकल लो | मैं उसकी चूत से लंड को निकाल कर सुनीता की चूत में डाल कर सुनीता को चुदने लगा |

 सुनीता उसकी चूत में अपनी ऊँगली डाल कर हिलने लगी | जिससे 1 मिनट में ही सुषमा की चूत से पानी निकल गया | अब सुषमा सुनीता के निप्पल को मुंह में रख कर चूसने लगी | मैं सुनीता की चूत में जोरदार धक्को के साथ उसको चोदने लगा | इससे कमरे में फच फच फच फच की आवाजे आने लगी साथ में सुनीता भी सेक्सी आवाजे कर रही थी | वो आवाजे ऐसे ही 10 मिनट तक और आती रही और मैं 20 मिनट की मस्त चुदाई के बाद झड़ गया | फिर उन दोनों ने मेरे लंड को चूस कर साफ कर दिया | मैंने अपने कपडे पहन लिए और अपने कमरे में आ गया | जिस कमरे में आंटी ने मुझे लेटने को कहा था | उस दिन के बाद मैं दोनों बहनों को चोदता रहता हूँ | कभी दोनों को एक साथ में तो कभी एक एक करके चोदता हूँ |

धन्यवाद…………

शादी से पहले बनाया हनीमून | xstoryhindi

शादी से पहले बनाया हनीमून | xstoryhindi

हाय दोस्तों मेरा नाम आकाश है और मैं बीकानेर का रहने वाला हूँ | अभी मैं जयपुर में रहकर पढ़ाई कर रहा हूँ और मौज भी उड़ा रहा हूँ | कहानी का टाइटल पढ़कर आपको लग रहा होगा शादी से पहले मैं और मेरी होने वाली पत्नी ने कहीं जाकर सैक्स किया होगा लेकिन ऐसा नहीं है |

मेरी जो गर्लफ्रेंड है उसकी शादी होने वाली थी और हम कुछ नहीं कर सकते थे इसलिए हम दोनों मनाली घूमने गए और बिलकुल किसी हनीमून की तरह वहां कुछ दिन रहकर आये | तो आईये इस बात को थोडा और विस्तार से बताता हूँ और हमने क्या क्या किया वो भी |

तो जैसा की मैंने बताया मेरी एक गर्लफ्रेंड है जिसका नाम नेहा है और अभी भी वो मेरी गर्लफ्रेंड है भले ही उसकी शादी हो गई हो | कुछ दिन पहले की बात है उसका मुझे फ़ोन आया और उसने मुझसे कहा मेरी शादी तय हो गई है और मैं मना भी नहीं कर सकती | मैंने उसको पहले भी चोदा था लेकिन सिर्फ एक बार और ये बात सुनकर मुझे उसको चोदने की तलब और बढ़ गई |   आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है ।

वैसे मैं उससे पीछा छुड़ाना चाहता था लेकिन उसको और थोडा चोदने के बाद लेकिन मुझे मौका नहीं मिला | तो मैंने उससे थोड़ी बहुत इमोशनल बातें की, तभी मेरे दिमाग में आईडिया आया कि क्यों न इसको कहीं बाहर लेकर जाऊं और वहां इसको बहुत चोदूं | मैंने उससे कहा चलो जो हो गया वो हो गया लेकिन मैं तुम्हारे साथ और कुछ पल बिताना चाहता हूँ, तो चलो कहीं बाहर चलते है | तो उसने कहा ठीक है मैं कॉलेज ट्रिप बोलकर चल सकती हूँ | फिर हम दोनों ने मिलकर मनाली जाने का फैसला लिया और तीन दिन के बाद वाली ट्रेन से निकल गए |  आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है ।

हमारी साइड वाली बर्थ थी ऊपर से ए.सी. में, तो परदे भी लगे थे मतलब मौका | तो मैंने मौके का पूरा फायदा उठाया, मैं कभी उसके दूध चूसता तो कभी उसको अपना लंड चुसाता और यही सब करते करते हम मनाली पहुँचे | मैंने रूम पहले से ही बुक करवा लिया था और हमें लेने के लिए ओला टैक्सी भी स्टेशन के बाहर आ गई थी, तो जाने में कोई प्रॉब्लम नहीं हुई | जब हम होटल जा रहे थे तो ड्राईवर ने हम से पूछा था कि क्या हम दोनों शादी करके यहाँ आये है ? तो मैंने कहा हाँ ऐसा ही समझ लो | मैं सोच रहा था अगर ये फिर से अपने पति के साथ घूमने आई और यही टैक्सी वाला फसा, तो क्या सोचेगा ? लेकिन वो जो भी सोचे मेरा क्या |

 फिर हम दोनों होटल पहुँचे और अपने रूम में चले गए | हमने सामान रखा और सीधा जाके बिस्तर पर लेट गए क्यूंकि हम थके हुए थे और हमें नींद आ गई | हमारी नींद शाम को खुली, तो उसने कहा मैं नहा के आती हूँ फिर हम घूमने चलते हैं और नहाने चली गई | तभी मुझे याद आया कि नहाया तो मैं भी नहीं हूँ तो मैं भी उसके पीछे पहुँच गया और उससे कहा मुझे भी नहाना है तुम्हारे साथ, ये सुनकर उसने हवस भरी मुस्कान दी और फिर हम दोनों नहाने के लिए घुस गए |

पहले उसने मेरे कपड़े उतारे और उसके बाद मैंने उसके और जब दोनों नंगे हो गए तो हमने शावर चालू किया और नहाने लगे | पहले मैंने साबुन लिया और उसके हाँथ से लगाना चालू किया और उसके दूध पर पहुँच गया और उसके दूध पर घिसने लगा |

 फिर मैंने उसके पूरे बदन पर साबुन लगा दिया और मलने लगा | मैं उसके दूध बहुत मल रहा था और फिर मैंने उसको घुमा दिया उसको अपने से चिपका के उसके दूध घिसने लगा | फिर मैंने उसकी चूत पर हाँथ लगाया और थोड़ी देर तक मली और फिर उसको कहा अब तुम | फिर उसने मेरे ऊपर साबुन लगाया और मेरा लंड पकड़ के हिलाने लगी | उसने थोड़ी देर तक मेरा लंड हिलाया और फिर हम शावर के नीचे खड़े हो गए और नहाने लगे और किस भी करते रहे | तभी मेरे लंड ने मुट्ठ छोड़ दिया और हम नहाते रहे | फिर हम बाहर आये और हमने एक दूसरे को तौलिए से पोंछा और कपड़े पहनकर घूमने निकल गए | फिर हमने खाना खाया और थोडा बहुत घूम कर वापस आ गए |  आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है ।

हम वापस आये और जाके कपड़े बदले और बिस्तर पर कम्बल में घुस के बैठ गए और टी.वी. देखने लगे | मैं सोच रहा था टी.वी. पर कोई रोमांटिक मूवी देखूँ लेकिन साली मेरी गर्लफ्रेंड तारे ज़मीन पर लगा के बैठी थी और देख रही | मैंने मन में उसको पचास गाली बकी और फिर थोड़ी देर के लिए लाइट चली गई और कुछ धमाका हुआ | ये लाइट जिसने भी गोल की थी मैं उसको दिल से दुआएँ दे रहा था | फिर मैंने उसको अपनी तरफ खींचा और उसको किस करना शुरू कर दिया | हम किस कर रहे थे तभी लाइट आ गई लेकिन अब क्या अब तो कारवाँ शुरू हो चूका था | टी.वी. भी अपने आप शुरू हो गई लेकिन अब हमारा ध्यान सिर्फ किस करने में था | किस करते समय मैंने एक बात पर ध्यान दिया कि मुझसे ज्यादा तो वो गर्मी दिखा रही थी | फिर मैंने उसका टॉप उतारा और उसका ब्रा मुझसे खुल नहीं रहा था तो उसने खुद ही खोला और उतार दिया |

मैंने उसके दूध पकड़े और जोर जोर से दबा कर चूसने लगा | वो मेरे सिर पर हाँथ फिरा रही थी और ऊम्म्म्मम्म्म्म उम्म्मम्म्म्म उम्म्म्मम्म उम्म्म्मम्म म्मम्मम्मम्म म्मम्मम्मम उम्म्मम्म्म्म उम्म्म्मम्म्म्म उफ्फ्फ्फफ्फ्फ्फ़ उफ्फ्फ्फफ्फ्फ्फ़ कर रही थी | मैंने थोड़ी देर तक उसके दूध चूसे और फिर उसने मेरी पैंट खोलना शुरू किया तो मैं रुक गया और उसको देखता रहा | उसने मेरी पैंट उतारी और चड्डी भी और मेरा लंड पकड़ के हिलाने लगी |

 फिर उसने मेरा लंड चूसना शुरू किया तो मैंने कहा रुको और मैंने कंडोम निकाला और फ्लेवर वाला लगा लिया | फिर उसने मेरा लंड चूसना शुरू कर दिया अब वो टेस्ट लेकर चूस रही थोड़ी देर लंड चूसने और हिलाने के बाद मेरा लंड ने मुट्ठ निकाल दिया और वो कंडोम के अन्दर ही निकला था | फिर मैं थोड़ी देर बैठा रहा और वो भी मेरे बाजू में आकर बैठ गई थी | फिर मैंने थोड़ी देर बाद उसके पजामें हाँथ डाला और उसकी चूत सहलाने लग गया और वो अपने दूध दबाते हुए अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह करती रही |

फिर मैंने उसका पजामा और पैंटी उतार दी और उसकी चूत चाटने लगा और वो मेरा सिर दबाते हुए अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह करती रही | मैं उसकी चूत चाटते हुए अपना लंड भी हिला रहा था और थोड़ी देर में मेरा लंड पूरी तरह से खड़ा हो गया |

 फिर मैं उठा और जाके उसको किस करने लगा और उसके दूध दबाये और फिर मैंने उससे कहा तैयार हो ? तो उसने हाँ में सिर हिलाया और मैंने उसकी चूत पर लंड घिसना शुरू कर दिया | जब मैं उसकी चूत पर लंड घिस रहा था वो उम्म्म्मम्म्म्म उम्म्म्मम्म्म्म उम्म्म्मम्म उफ्फ्फ्फफ्फ्फ़ इस्स्स्सस्स्स्स इस्स्स्सस्स्स्स इस्स्स्सस्स्स्स कर रही और फिर मैंने उसकी चूत के छेद पर लंड रखा और अन्दर घुसा दिया | जैसे ही मेरा लंड अन्दर गया वो चद्दर को जमके पकड़ने लगी जैसे पहली बार चुद रही हो | फिर मैंने धीरे धीरे उसको चोदना शुरू किया और वो अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह आआआआआ आआआआअ करने लगी |

फिर मैंने अपना पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया और वो मुझे पीछे धक्का देने लगी लेकिन मैं कहाँ रुकने वाला था, मैंने उसको चोदना जारी रखा और वो अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह आआआआअ अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह आआआआआ आआआअ अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह करती रही | 

फिर मैं भी बिस्तर पर उसके पीछे लेट गया और उसकी एक टांग उठाकर उसको चोदने लगा और वो अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह आआआआआ आआआआ आआह्ह्ह्ह करती रही | थोड़ी देर इसी तरह चोदने के बाद मैंने उससे कहा घोड़ी बन जाओ और वो बन गई और मैंने पीछे से उसकी चूत में लंड डाला और उसको चोदने लगा |   आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है ।

वो अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह आआआआअ अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह आआआआअ करती रही | तभी मेरे लंड ने फिर से मुट्ठ की बारिश कर दी जब मेरा लंड उसकी चूत के अन्दर था लेकिन डरने की कोई बात नहीं मैंने कंडोम पहना था | फिर मैंने कंडोम निकाल कर फेंका और हम दोनों बिना कपड़े के लेट गए और मैं उसके दूध दबा रहा और फिर हम सो गए | 

उसके बाद हम दोनों वहां दो दिन रहे और सुबह शाम सैक्स किया और उसके बाद हम वापस आ गए | दो महीने बाद उसकी शादी हो गई लेकिन आज भी कभी कभी हम प्लान बनाकर कहीं कहीं मिलते है और सैक्स करते है लेकिन उसके पति को कुछ नहीं पता हमारे बारे में | तो दोस्तों ये थी मेरी कहानी आशा करता हूँ आपको अच्छी लगी होगी |  आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है ।
loading...